यूनानी कला में पात्र चित्रण

पात्र चित्रण 

प्रचीन यूनानी कला के अंतिम चरण का विचार एथेंस के पत्रों पर हुयी चित्रकारी से आरम्भ किया जा सकता है | इस समय काले रंग की आकृतियों वाली तकनीक का प्रयोग हुआ है | जिन्हें पकाई हुयी मिटटी के के लाल धरातल पर चित्रित किया गया है | आकृतियों की आतंरिक रेखाएं काले रंग को खुरच कर बनायी गयी हैं |कहीं कहीं सफ़ेद एवं बैंगनी रंग का पुट दिया गया है | कब्रों में काम आने वाले पात्रों पर प्राय: ‘नेसास’ नामक अर्ध मानव – अर्ध अश्वदैत्य को मारते हए ‘हेराक्लीस’की पौराणिक कथा का अंकन अत्यंत लोकप्रिय था |

एथेंस की काली आकृति चित्रण शैली 560ई. पूर्व के लगभग अपने चरमोत्कर्ष पर थी | इस समय यहाँ के शासक ‘पिसिस्त्रातुस’था | लाल धरातल पर काली आकृतियाँ बनती थी | किन्तु छठी शताब्दी ई. पूर्व के अंतिम चरण में पत्रों के धरातल को काला रंगा जाने लगा था | तथा के समय ही आकृतियों वाले भाग रिक्त छोड़े जाने लगे थे | इस टेक्नीक को काले धरातल पर लाल आकृति चित्रण  कहा गया |

काली पृष्ठभूमि पर लाल आकृति के आरम्भिक चित्रकार ( एन्दोकिदीस, सियाक्स )इनकी शैली में नाज़ुकपन है | अन्य चित्रकारों में (एपिक्तोतेस , युफ़्रोनिओस ,मेकरन ,हीरोन ,युथिमिडीस,पेनेतिअस ,एक्सिकियास ,दुओरिस ,आदि) | इन उपरोक्त ने पात्र कला में अनेक तकनीकी प्रयोग किये | मीडियास के नाम सेएक अन्य  पात्र निर्माता एवं चित्रकार भी बहुत विख्यात हो गया था |

मूर्तिकला

480 ई. पूर्व में यूनान में गज्रेक्स (Xeroxes)का आक्रमण हुआ | पारसी आक्रान्ताओं ने समस्त कला कृतियों को नष्ट कर डाला |जब एथेंस उनके चंगुल से मुक्त हुआ तब नवीन भवनों का निर्माण किया गया ,किन्तु प्राचीन कला कृतियों के पुनरुद्धार का कोई प्रत्न नही किया गया |उत्खनन में ये सभी अवशेष उसी अवस्था में प्राप्त हुए हैं | अतः तत्कालीन मूर्तिकला के परिचय के लिए हम इन्ही अवशेषों पर निर्भर रहते हैं | पांचवीं सदी के अंत में कलाकार बड़ी ही सजीव ,उन्मुक्त और परंपरा से पूर्णत: भिन्न नवीन आकृतियों की रचना करने लगे थे |

इस समय तक कांसे की पोलदार प्रतिमाएं ढालने की तकनीक ज्ञात हो चुकी थी | हलके तथा भरी कपडे की सिकुड़नों के विभिन्न प्रभाव दिखाने में इस समय के मूर्तीकारों ने कुशलता प्राप्त करना प्रारंभ कर दिया था |अश्वारोहियों आदि की प्रतिमाएं भी बनने लगीं थी |लेटी तथा बैठी हुई स्थिति में भी छोटी एवं बड़ी कांस्य की मूर्तियाँ भी बनाई जाने लगी थी |

एटिका  में जहाँ नग्न आकृतियाँ  बनती थी | वहीँ  आयोनियां  से वस्त्राच्छादित  प्रतिमाओं  की परंपरा  थी |संभवतः  यहाँ अधिक मांसल आकृति  अच्छी समझी जाती होगी | भवनों को अलंकृत करने हेतु  विषम प्रकार की  प्रतिमाएं  निर्मित की गयी |त्रिभुजाकार सरदल तीन मानव  मुख वाले जीव  की कल्पना की गयी | जिसकी पूँछ सर्पाकृति की  बनायीं गयी  त्रिभुज के कोणीय क्षेत्र को भरके  की गयी इस समय की बड़ी उपयुक्त आकृति है  |

इस प्रकार बनी प्रतिमाओं  को तथा उनकी प्रष्ठभूमि  को विभिन्न प्रकार से रंगा भी जाता था | मुर्ति का धरातलों तथा आकृतियों की सूक्ष्मताओं का भी बहुत सावधानी से अंकन करने लगें  थे | किन्तु फिर भी इस समय तक छाया प्रकाश का विवरण  देखने को नहीं मिलता | दृष्टिबिन्दु एवं परिप्रेक्ष्य के विचारों का अभाव है | अतः कहा जा सकता है कि कलाकार अभी तक पूर्णतः परंपरा मुक्त नहीं हो पाएं थे  |

%d bloggers like this: