51 शक्ति पीठ कौन कौन से हैं ?

हिन्दू धर्म के अनुसार जहां सती देवी के शरीर के अंग गिरे, वहां वहां शक्ति पीठ बन गईं। ये अत्यंत पावन तीर्थ कहलाये। ये तीर्थ पूरे भारतीय उपमहाद्वीप पर फैले हुए हैं। जयंती देवी शक्ति पीठ भारत के मेघालय राज्य में नाॅरटियांग नामक स्थान पर है।

पुराण ग्रंथों, तंत्र साहित्य एवं तंत्र चूड़ामणि में जिन बावन शक्तिपीठों का वर्णन मिलता है, वे निम्नांकित हैं। निम्नलिखित सूची ‘तंत्र चूड़ामणि’ में वर्णित इक्यावन शक्ति पीठों की है। बावनवाँ शक्तिपीठ अन्य ग्रंथों के आधार पर है। इन बावन शक्तिपीठों के अतिरिक्त अनेकानेक मंदिर देश-विदेश में विद्यमान हैं। हिमाचल प्रदेश में नयना देवी का पीठ (बिलासपुर) भी विख्यात है। गुफा में प्रतिमा स्थित है। कहा जाता है कि यह भी शक्तिपीठ है और सती का एक नयन यहाँ गिरा था। इसी प्रकार उत्तराखंड के पर्यटन स्थल मसूरी के पास सुरकंडा देवी का मंदिर (धनौल्टी में) है। यह भी शक्तिपीठ है। कहा जाता है कि यहाँ पर सती का सिर धड़ से अलग होकर गिरा था। माता सती के अंग भूमि पर गिरने का कारण भगवान श्री विष्णु द्वारा सुदर्शन चक्र से सती माता के समस्तांग विछेदित करना था।ऐसी भी मान्यता है कि उत्तरप्रदेश के सहारनपुर के निकट माता का शीश गिरा था जिस कारण वहाँ देवी को दुर्गमासुर संहारिणी शाकम्भरी कहा गया। यहाँ भैरव भूरादेव के नाम से प्रथम पुजा पाते हैं।

शक्तिपीठों की संख्या इक्यावन कही गई है। ये भारतीय उपमहाद्वीप में विस्तृत हैं।

“शक्ति” अर्थात देवी दुर्गा, जिन्हें दाक्षायनी या पार्वती रूप में भी पूजा जाता है।

“अंग या आभूषण” अर्थात, सती के शरीर का कोई अंग या आभूषण, जो श्री विष्णु द्वारा सुदर्शन चक्र से काटे जाने पर पृथ्वी के विभिन्न स्थानों पर गिरा, आज वह स्थान पूज्य है और शक्तिपीठ कहलाता है।

स्थानअंग या आभूषणशक्ति
1.  हिंगुल या हिंगलाज, कराची, पाकिस्तान     ब्रह्मरंध्र (सिर का ऊपरी भाग)  कोट्टरी     
2. शर्कररे, कराची पाकिस्तानआँखमहिष मर्दिनी
3. सुगंध, बांग्लादेशनासिकासुनंदा
4. अमरनाथ, पहलगाँव, काश्मीरगलामहामाया
5. ज्वाला जी, कांगड़ा, हिमाचल प्रदेशजीभसिधिदा (अंबिका)
6. जालंधर, पंजाबबांया वक्षत्रिपुरमालिनी
7. अम्बाजी मंदिर, गुजरातहृदयअम्बाजी
8. गुजयेश्वरी मंदिर, नेपाल,दोनों घुटनेमहाशिरा
9. मानस, कैलाश पर्वत, मानसरोवर, तिब्बतदायां हाथदाक्षायनी
10. बिराज, उत्कल, उड़ीसानाभिविमला
11.गण्डकी नदी नदी के तट पर मस्तकगंडकी चंडी
12. बाहुल, अजेय नदी तट, केतुग्राम, कटुआ, वर्धमान जिलाबायां हाथदेवी बाहुला
13. उज्जनि, गुस्कुर स्टेशन से वर्धमान जिला, पश्चिम बंगालदायीं कलाईमंगल चंद्रिका
14. माताबाढ़ी पर्वत शिखर, निकट राधाकिशोरपुर गाँव, उदरपुर, त्रिपुरादायां पैरत्रिपुरसुंदरी
15. छत्राल, चंद्रनाथ पर्वत शिखर, चिट्टागौंग जिला, बांग्लादेशदांयी भुजाभवानी
16. त्रिस्रोत, सालबाढ़ी गाँव, बोडा मंडल, जलपाइगुड़ी जिला, पश्चिम बंगालबायां पैरभ्रामरी
17. कामगिरि, कामाख्या, नीलांचल पर्वत, गुवाहाटी, असमयोनिकामाख्या
18. जुगाड़्या, खीरग्राम, वर्धमान जिला, पश्चिम बंगालदायें पैर का बड़ा अंगूठाजुगाड्या
19. कालीपीठ, कालीघाट, कोलकातादायें पैर का अंगूठाकालिका
20. प्रयाग, संगम, इलाहाबाद, उत्तर प्रदेशहाथ की अंगुली   ललिता  
21. जयंती, कालाजोर भोरभोग गांव, खासी पर्वत, बांग्लादेशबायीं जंघाजयंती
22. किरीट, किरीटकोण ग्राम, लालबाग कोर्ट रोड स्टेशन, मुर्शीदाबाद जिला, पश्चिम बंगालमुकुट
23. मणिकर्णिका घाट, काशी, वाराणसी, उत्तर प्रदेशमणिकर्णिका
24. कन्याश्रम, भद्रकाली मंदिर, कुमारी मंदिर, तमिल नाडुपीठश्रवणी
25. कुरुक्षेत्र, हरियाणाएड़ीसावित्री  
26. मणिबंध, गायत्री पर्वत, निकट पुष्कर, अजमेर, राजस्थानदो पहुंचियांगायत्री
27. श्री शैल, जैनपुर गाँव, , बांग्लादेशगलामहालक्ष्मी
28. कांची, कोपई नदी तट पर, , बीरभुम जिला, पश्चिम बंगालअस्थिदेवगर्भ
29. कमलाधव, शोन नदी तट पर एक गुफा में, अमरकंटक, मध्य प्रदेशबायां नितंबकाली
30. शोन्देश, अमरकंटक, नर्मदा के उद्गम पर, मध्य प्रदेश दायां नितंबनर्मदा
31. रामगिरि, चित्रकूट, झांसी-माणिकपुर  उत्तर प्रदेशदायां वक्षशिवानी
32. वृंदावन, भूतेश्वर महादेव मंदिर, निकट मथुरा, उत्तर प्रदेशकेश गुच्छ/  चूड़ामणिउमा
33. शुचि, शुचितीर्थम शिव मंदिर, तमिल नाडुऊपरी दाड़नारायणी
34. पंचसागर, अज्ञातनिचला दाड़वाराही
35. करतोयतत, भवानीपुर, बांग्लादेशबायां पायलअर्पण
36. श्री पर्वत, लद्दाख, कश्मीर,दायां पायलश्री सुंदरी
37. विभाष, तामलुक, पूर्व मेदिनीपुर जिला, पश्चिम बंगालबायीं एड़ीकपालिनी (भीमरूप)
38. प्रभास,  जूनागढ़ जिला, गुजरातआमाशयचंद्रभागा
39. भैरवपर्वत, भैरव पर्वत, क्षिप्रा नदी तट, उज्जयिनी, मध्य प्रदेशऊपरी ओष्ठअवंति
40. जनस्थान, गोदावरी नदी घाटी, नासिक, महाराष्ट्रठोड़ीभ्रामरी
41. सर्वशैल/गोदावरीतीर, कोटिलिंगेश्वर मंदिर, , आंध्र प्रदेशगालराकिनी/ विश्वेश्वरी      
42. बिरात, निकट भरतपुर, राजस्थानबायें पैर की अंगुलीअंबिका
43. रत्नावली, रत्नाकर नदी, हुगली, पश्चिम बंगालदायां स्कंधकुमारी
44. मिथिला, जनकपुर, भारत-नेपाल सीमा       बायां स्कंधउमा
45. नलहाटीबीरभूम, पश्चिम बंगालपैर की हड्डीकलिका देवी
46. कर्नाट, अज्ञातदोनों कानजयदुर्गा
47. वक्रेश्वर, पापहर नदी बीरभूम जिला, पश्चिम बंगालभ्रूमध्यमहिषमर्दिनी
48. यशोर, ईश्वरीपुर, खुलना जिला, बांग्लादेशहाथ एवं पैरयशोरेश्वरी
49. अट्टहास, बीरभूम जिला, पश्चिम बंगालओष्ठफुल्लरा   
50. नंदीपुर, बीरभूम जिला, पश्चिम बंगाल  गले का हारनंदिनी
51. लंका, स्थान अज्ञात    पायलइंद्रक्षी

इसके अतिरिक्त निम्नलिखित अन्य देवी मंदिरों को भी शक्ति पीठ की मान्यता प्राप्त है |

शंकरी देवी, त्रिंकोमाली श्रीलंका 2. कामाक्षी देवी, कांची, तमिलनाडू 3. सुवर्णकला देवी, प्रद्युम्न, पश्चिमबंगाल 4. चामुंडेश्वरी देवी, मैसूर, कर्नाटक 5. जोगुलअंबा देवी, आलमपुर, आंध्रप्रदेश 6. भराअंबा देवी, श्रीशैलम, आंध्रप्रदेश 7. महालक्ष्मी देवी, कोल्हापुर, महाराष्ट्र 8. इकवीराक्षी देवी, नांदेड़, महाराष्ट्र 9. हरसिद्धी माता मंदिर, उज्जैन, मध्यप्रदेश 10. पुरुहुतिका देवी, पीथमपुरम, आंध्रप्रदेश 11. पूरनगिरि मंदिर, टनकपुर, उत्तराखंड 12. मनीअंबा देवी, आंध्रप्रदेश 13. कामाख्या देवी, गुवाहाटी, असम 14.मधुवेश्वरी देवी, इलाहाबाद, उत्तरप्रदेश 15. वैष्णोदेवी, कांगड़ा, हिमाचलप्रदेश 16. सर्वमंगला देवी, गया, बिहार 17. विशालाक्षी देवी, वाराणसी, उत्तर प्रदेश 18. शारदा देवी , पीओके 19. कालका देवी , दिल्ली

LATEST POSTS

Free Download Sample paper Term 2

Download Sample paper Term 2 free XII (2021-22) – CBSE board

Keep reading

हनीमून पर पहनने के लिए बेस्ट है ये नाईट ड्रेस

हम आपके लिए आज काफी ज्यादा खूबसूरत नाइट ड्रेस लेकर आए हैं। इन्हें पहनकर आपको बोल्ड लुक मिलेगा। यह नाइट ड्रेस किसी भी विशेष ऑकेजन पर पहनने के लिए पर्फेक्ट हैं।

Keep reading

HOW TO ACHIEVE SELF-REALIZATION?

How can we realize true self to make our personality better?

Keep reading

REALIZATION IS THE BEST CURE

Realization means becoming conscious of real self to know the real in us and making sure we understand our flaws so that we can eradicate them with our improved actions.

Keep reading

Loading…

Something went wrong. Please refresh the page and/or try again.